Lovedeep Kapila

Hello World

Glimpse of GOD भगवान के दर्शन

Jan 012018

लवली  नामक इंसान भगवान को बहुत मानता था। लेकिन अपने दु:खो से बहुत दुखी रहता था। सोचता था की इतना भगवान को याद करता हूँ, फिर भी दुःख पीछा नहीं छोड़ते। काश कोई सिद्दी होती तो दुखों से छुटकारा हो जाता। एक बार एक सिद्ध पुरुष से उसे एक सात्विक सिद्दी का पता चला। जिसमें 6 महीने तक भगवान की आराधना करनी थी। जिससे उसको भगवान के दर्शन होने थे।

उसने 8 महीनों तक विधिपुवर्क तपस्या की। लेकिन उसको किसी प्रकार की सिद्दी प्राप्त नहीं हुई। अचानक एक दिन जसप्रीत नामक दोस्त से उसकी मुलाकात हुई। मुलाकात के दौरान जसप्रीत ने उसको पल भर में मनचाही वस्तुए मंगवाकर दी। तब लवली ने जसप्रीत से पुछा की यह सब तुमने कैसे संभव किया। जसप्रीत ने कहा की मैंने एक भूत सिद्द किया हुआ है। उसके कारण ही मैं हर चीज पल भर में मंगवा लेता हूँ।undefined

उसको 3 दिन में सिद्द किया जा सकता है। तब लवली ने जसप्रीत से उस विधि का ज्ञान लिया और 3 दिन में उस विधि को किया। लेकिन इस बार भी उसको कोई सिद्दी प्राप्त नहीं हुई। वो बहुत परेशान हुआ और जसप्रीत को आकर मदद करने को कहा। जसप्रीत आया और भूत को याद किया। भूत झट से आ गया। पूछने पर भूत ने बताया की तुम्हारे दोस्त ने जो भागवत सिद्दी की हुई है, उसके कारण उसके शरीर से बहुत ताप निकल रहा है।

जिसके कारण मैं उसके पास जा नहीं पा रहा हूँ। ऐसा सुनकर लवली अपनी तपस्या पर बहुत खुश हुआ। लेकिन उसने अपने दोस्त को भूत से पूछने को कहा की मुझे भगवान् के दर्शन क्यों नहीं हुए ? तब भूत ने बताया की तुम्हारें पिछले कर्मो के कारण तुम्हे दुःख दर्द थे। लेकिन तुम्हारें भगवान में आस्था के कारण तुम उन दुखों को सेहन कर पा रहे थे। तुमने जो भागवत ज्ञान लिया और सिद्दी की उसका असर पिछले कर्मो के दुखों को ख़तम करने में चला गया। यदि तुम थोड़े समय और तपस्या करते तो तुम्हे भगवान के दर्शन भी हो जाते और तुम सुखी भी रहने लगते। मगर तुम्हारें दुखों के कारण ही तुममें सब्र खत्म हो चूका है।

यदि इंसान भगवान से यह कहे की, हे भगवान सभी के लिए जो उत्तम हो वो करों, तो कभी दुःख न आये। मैं भी अपने लिए सुख और दूसरों के लिए दुःख मांगता था। तभी मेरी मृत्यु के बाद मुझे प्रेत योनी मिली है। और मैं इंसानों के मल-मूत्र पर अपना निर्वाह कर रहा हूँ। मैं अब जा रहा हूँ, मुझसे अब और ताप सेहन नहीं हो रहा। ऐसा कहकर भूत भाग गया। फिर अगले 6 हफ़्तों में ही लवली को अपनी सिद्दी में सफलता मिल गयी और भगवान के दर्शन हो गए। 

Comments

Atom

Powered by Lovedeep Kapila